manali me ghumne ki jagah | kullu manali mein ghumne ki jagah

Table of Contents

manali mein ghumne ki jagah

दोस्तों आज हम बात करने manali me ghumne ki jagah के बारे में, मनाली के बेहतरीन घुमने की जगह के बारे में, हिमाचल प्रदेश के कुल्लू घाटी के उत्तरी छोर के पास पहाड़ों से गिरा हुआ जो कि भारत के टॉप बेस्ट हिल स्टेशन में से एक है,मनाली हिमाचल प्रदेश में एडवेंचर के टॉप टूरिस्ट स्टेशन में से एक है मनाली हिमालय की गोद में बसा शहर अपनी खूबसूरती और साथ ही अपनी एडवेंचर एक्टिविटी के लिए जाना जाता है |

 

हर साल यहां लाखों की तादाद में सैलानी पहुंचते हैं और एक्सपीरियंस करते हैं यहां का रिच और पारंपरिक संस्कृति का , अगर आप भी हॉलीडेज की छुट्टियां मनाने मनाली आना चाहते हैं और वहां की खूबसूरती और वहां के घूमने स्थान अगर जानना चाहते हैं, तो यह पोस्ट आपके लिए बहुत हेल्पफुल होने वाली है इस पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़ें, तो आइए देखें वह मनाली की सबसे खूबसूरत जगह के बारे में |

manali me ghumne ki jagah

kullu manali mein ghumne ki jagah

कुल्लू और मनाली– हिमाचल प्रदेश के दो अलग-अलग हिल स्टेशन है लेकिन अक्सर लोग इनका नाम एक साथ ही लेते हैं और यह जगह भारत में सबसे ज्यादा घूमने जाने वाले स्थानों में से एक है कुल्लू- प्राकृतिक नजारों पहाड़ों और मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है और मनाली- नदियों पहाड़ों और ऐडवनचर एक्टिविटी के लिए प्रसिद्ध है |

लोग हर साल जहाँ छुट्टियां मनाने, स्नोफॉल देखने, ट्रैकिंग करने, स्क्रीन करने, और पर्वतों की चढ़ाई करने के लिए आते हैं जो कि काफी खूबसूरत नजर आता है जब आपने देखा होगा कुल्लू से मनाली की दूरी लगभग 40 किलोमीटर है तो इन दोनों के बीच में लगभग 1 घंटे का समय लग जाता है तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कुल्लू मनाली के आसपास आप कहां कहां पर घूम सकते हैं|

मनाली कब जाये 

अगर आप कुल्लू मनाली में बर्फ का मजा लेना चाहते हैं तो आप  दिसंबर से लेकर फरवरी तक आ सकते कियोकी जहाँ खूब बर्फ पड़ती है तो आप बर्फ देखने के लिए इस टाइम आ सकते हैं अगर आप गर्मियों की छुट्टियां बताना चाहते हैं तो आप रोहतांग पास आ सकते हैं जिसका रास्ता मई से लेकर अगस्त तक खुलता है अगस्त के बाद यह रास्ता बंद हो जाता है क्योंकि यहां भारी बर्फबारी शुरू हो जाती है आप दोनों मौसम में से कभी भी आ सकते हैं |

मनाली कैसे पहुचे

मनाली हवाई जहाज से कैसे पहुंचे

आप हवाई यात्रा से मनाली जाना चाहते हैं तो मनाली के नजदीक जो हवाई अड्डा है उसका नाम कुल्लू मनाली हवाई अड्डा है जो कि मनाली से 50 किलोमीटर दुरी पर भुंतर में है, मनाली आने के लिये उड़ाने –दिल्ली से ,चंडीगढ़ से, और जब हड्डी से मिल जाती है, कुल्लू मनाली हवाई अड्डे तक पहचने के लिए दिल्ली से 2 घंटे लग सकते हैं|

ट्रेन के द्वारा कैसे पहुंचे

कुल्लू मनाली में जो नजदीक का रेलवे स्टेशन है उसका नाम जोगिंदर नगर है जो कुल्लू मनाली से 160 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है स्टेशन में पहुंचने के लिए आपको पठानकोट के रास्ते छोटी लाइन से आना पड़ेगा एक और नजदीक रेलवे स्टेशन है जिसका नाम ऊना है जो कुल्लू से 300 किलोमीटर की दूरी पर है|

सड़क के द्वारा मनाली कैसे पहुंचे

सड़क के द्वारा मनाली पहुंचने के लिए हिमाचल प्रदेश देश के अन्य राज्यों के सभी प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है, इन शहरों से आपको राज्य परिवहन (एचआरटीसी) की बसें आराम से मिल जाएगी बाकी सभी से सुपर लग्जरी गुजरी सुपरफास्ट और सुधारण आपको मनाली जाने के लिए मिल जाएगी और इन शहरों से आपको टैक्सी भी उपलब्ध हो जाएगी|

manali me ghumne ki jagah

1. manikaran ke bare में बताये

मणिकर्ण:- मणिकरण हिमाचल प्रदेश में कुल्लू जिले के भुंतर से उत्तर पश्चिम में घाटी में पार्वती नदी के तट पर बसा है, मनीकारन साहिब की दूरी कुल्लू से 44 किलोमीटर बोन्तर से 35 किलोमीटर चंडीगढ़ से 292 किलोमीटर कांगड़ा से 220 किलोमीटर और शिमला से 233 किलोमीटर है जे हिंदुओं और सिखों का तीर्थ स्थल है यह समुद्र तल से 1760 मीटर यानी की लगभग 6000 फुट की ऊंचाई पर स्थित है समुद्र तल से 6000 फुट की ऊंचाई पर बसा है|

शिव मंदिर मणिकर्ण हिमाचल प्रदेश

मणिकर्ण का शाब्दिक अर्थ है कान की बाली,गुरुदुवारे और मंदिर इन दोनों के भीच से लगती हुई बहती है पारवती नदी जिसका दृश रुमंचित करने वाला होता है इस नदी का पानी बर्फ के समान ठंडा होता है नदी के दाहिनी और गर्म जल के उगलते स्रोत नदी से उड़ते हुए दिखाई देते हैं इस दृश ने वैज्ञानिकों को लंबे समय से हैरान कर रखा है इनका कहना है के यहां के पानी में रेडियम है सर्दी के मौसम में यहां खूब बर्फ पड़ती है,

बर्फ के मौसम में भी गुरुद्वारा परिसर के अंदर बनाए विशाल स्थलों में गर्म पानी में आराम से नहाया जा सकता है जितनी देर चाहे मगर ध्यान रहे कि अधिक देर तक नहाने से चक्कर भी आ सकते हैं पुरुषों में महिलाओं के लिए अलग-अलग नहाने का प्रबंध है यहां पर भगवान राम भगवान कृष्ण भगवान विष्णु और भगवान शिव के मंदिर हैं हिंदू मान्यताओं में यहां का नाम इस घाटी में भगवान शिव के साथ भ्रमण के दौरान मां पार्वती के कान की बाली खोह जाने के कारण पड़ा था,

manali manikaran

मणिकर्ण गुरुदुवारा शाहिब

यहां के गर्म पानी के चश्में में गुरुद्वारे के लंगर के लिए बड़े-बड़े गोल बर्तन में चाय बनती है, और दाल चावल भी पकते है इन बर्तनों को स्थानीय भाषा में चुनौती भी कहते हैं, जहाँ पर कपड़े की पुतलियों में चावल डालकर धागे से बांधकर बेचे जाते हैं वहां पर आये यात्रियों को लगता है कि यह उनके जीवन का पहला खुला रसोईघर है, जहाँ पर बहुत से मंदिर और एक गुरुद्वारा साहिब भी है,

सिखों के दर्म स्थलों में यह स्थल विशेष स्थान रखता है गुरु नानक देव जी के यहां की यात्रा की स्मृति में बनाया गया था सिख दर्म में आस्था रखने वाले बड़ी संख्या में लोग यहां आते हैं यहां पर गुरु जी का लंगर 24 घंटे चलता रहता है मणिकर्ण अपने गर्म पानी के चश्मों के लिए प्रसिद्ध है, यहां की एक और दिलचस्प बात यह है कि यहां के तंग बाजार में भी गर्म पानी की आपूर्ति की जाती है

मणिकर्ण में गरम पानी

जिसके लिए विशेष रूप से पाइप बिछाए गए हैं जहाँ हर मोसम में गर्म पानी उपलब्ध है गर्मी सर्दी में पानी का तापमान हर मौसम में 94 डिग्री सेल्सियस रहता है देश विदेश से हर साल लाखों प्रकृति प्रेमी यहां के अजूबे को देखने आते हैं,यहाँ के खोलते पानी की चर्चा से मनीकारन वसेश आकर्षण का केंद्र है, गुरुदुवारा साहिब के विशालकाय भवन में ठहरने के लिए पर्याप्त स्थान है यहां पर ठहरने के लिए कई छोटे-बड़े होटल में कई निजी अतिथि घर भी हैं, मणिकारन से 3 किलोमीटर पहले कसोल भी एक शानदार विकल्प ठहरने के लिए है एक बार आप मणि कारन जरुर जाये|

2. मनु टेंपल मनाली

मनु टेंपल:-वह द फेमस मनु टेंपल मनु टेंपल मनाली माल रोड से 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है आप यह डिस्टेंस लगभग पैदल आधे से 1 घंटे में आराम से कवर कर सकते हैं एक और चीज जो आप लोगों को पता होनी चाहिए वह यह है कि मनाली का नाम भी मनु ऋषि जी के नाम पर पड़ा है और उन्होंने कई साल तक इसी जगह पर तपस्या भी की थी अगर आप भी मनाली जाने का प्लान कर रहे हैं तो मनाली में आप मनु टेम्पल जरुर जाये आपको अच्छा लगेगा| जे manali me ghumne ki jagah बहुत खूबसूरत है|

manali me ghumne ki jagah

3. जोगिनी वॉटर फॉल्स मनाली

जोगिनी वॉटर फॉल्स :-जुगनी वॉटरफॉल मनाली के मोस्ट ब्यूटीफुल वॉटरफॉल्स में से एक है, इसको खास बनाता है एक ब्यूटीफुल ट्रैकिंग एक्सपीरियंस जो कि मनाली से 2 से 3 घंटे पैदल जाना होता है जाते टाइम खुबसूरत उचे -उचे चिल के पेड़ो के बिच में जाता जे रास्ता आपको बहुत पसंद आयेगा,वॉटरफॉल जाने पर आप वहां का नजारा देख आपका दिल खुशी से जुम उठेगा कियोकी पहाड़ो से निचे को गिरता जे यारना कुदरत की कल्पना को दर्शाता है,आपका दिन जहाँ कैसे गुजर जाता है| आपको पता नहीं चलता अगर आप इसको देखे बिना वापिस इनकंप्लीट माना जाएगा, आप जुगनी वॉटरफॉल भी जरुर देखे |

इसे भी पड़े :-

shimla me ghumne ki jagah

rock garden chandigarh

4. सोलांग वैली मनाली

सोलांग वैली:– सोलंग वैली यह कुल्लू से 54 किलोमीटर दूर है और जबकि मनाली से यह दूरी 14 किलोमीटर दूर है, कुल्लू मनाली में होने वाले एडवेंचर स्पोर्ट्स के लिए प्रसिद्ध है सोलंग वैली में गए बिना आपकी यात्रा अधूरी है यहां पर आप पैराग्लाइडिंग कर सकते हैं ट्रैकिंग कर सकते हैं जोरिंग कर सकते हैं और रूपए का मजा भी आप यहां पर ले सकते हैं यह जो जगह है अपनी कुल्लू मनाली की यात्रा के दौरान आप सोलंग वैली रोहतांग पास गर्मियों में बर्फ का मजा लेने के लिए एक बेस्ट जगह है यह जगह गर्मियों में मई के महीने में खुलती है और जुलाई-अगस्त तक बंद हो जाती है क्योंकि यहां पर बहुत ही ज्यादा वर्क पड़ना शुरु हो जाती है तो इसलिए यह जगह केवल गर्मियों में ही खुलती है|

manali solang valley

5. रोहतांग पास मनाली

रोहतांग पास :—सबसे पहली जगह से आप मनाली आने पर घूम सकते हैं रोहतांग पास मनाली से 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, रोहतांग पास कनेक्ट करता है कुल्लू डिस्ट्रिक्ट और लाहौल एंड सपिटी डिस्ट्रिक्ट को, जब अटल टनल नहीं बनी थी तब एकमात्र रास्ता होता था, लाहौल एंड सपिटी डिस्ट्रिक्ट इंटर करने का,मनाली से रोहतांग पास की कार ड्राइविग को इंडिया की मोस्ट ब्यूटीफुल कार ड्राइविग में सबसे ऊपर रखा जाता है, जब जून-जुलाई में पूरा भारत गर्मी की मार को सहन कर रहा होता है तब यहां पर आको 6- 6 फुट बर्फ की परत दिखाई देती है इसलिए रोहतांग पास बढ़िया जगह है गर्मियों में सर्दियां का मजा लेने के लिए इसलिए जब आप मनाली के टूर पर जाएं तब रोहतांग पास जरूर जाएं|

6. पिन वैली नेशनल पार्क मनाली

पिन वैली नेशनल पार्क:-पिन वैली नेशनल पार्क हिमाचल प्रदेश की लाहौल और समिति जिले में स्थित है इस नेशनल पार्क की स्थापना 9 फरवरी 1987 में हुई थी इस नेशनल पार्क का कुल क्षेत्रफल 1825 वर्ग किलोमीटर है ( कोर जोन के रूप में 675 वर्ग किलोमीटर और बफर जोन में 1150 किलोमीटर) के एरिया में फैला हुआ है इस पार्क में हिम तेंदुए काफी देखने को मिलेंगे इसलिए स्पार्क गो हिम तेंदुआ के घर के रूप में भी जाना जाता है तथा यह कई अन्य जानवरों जैसे साइबेरियन इबैक्स, भारल, विसेल, रेड फॉक्स और मार्टन का प्राकृतिक आवास भी है, आपको यहां पर कई दुर्लभ पक्षी देखने को मिल सकते हैं जैसे के पिका ,हिमालयन , स्नो काक, गिद्ध, चकोर, सुनो प्राट्रीज ,प्राट्रीज, गोल्डन ईगल, गिर्फान, हिमालयन चाउ, सुनोफिंच और रेवेन भी यहां देखने को मिल सकते हैं,आप जा पार्क देखने जा सकते है |

7. पार्वती वैली मनाली

manali paragliding

पार्वती वैली अगर शांत जगह की तलाश है,तो आप पार्वती वैली आप कुछ समय शांति सुकून में बिताना चाहते हैं पार्वती वैली में आ सकते हैं यह घाटी सुंदर ढलान और प्राकृतिक नजारों के लिए फेमस है यहां पर पैराग्लाइडिंग करने, ट्रैकिंग और कैंपिंग भी होती है आप यहां पर ट्रैकिंग और कैंपिंग भी कर सकते हैं|

8. अटल टनल मनाली

अटल टनल सुरंग

अटल टनल:– जे जगह मनाली से लगभग 28 किलोमीटर की दूरी पर है इसकी खास बात यह है दुनिया की सबसे लंबी जिसकी लंबाई लगभग 9 किलोमीटर है यह टंडन कुल्लू और लाहौल और सपीटी डिस्ट्रिक्ट को जोड़ती है, जब यह पेंडल नहीं बनी थी तब लाहौल और सपीटी डिस्ट्रिक्ट में जाने के लिए6 से 7 घंटे का समय लग जाता था अब यह मात्र आधे घंटे में सफर पूरा हो जाता है, यह कमाल है तकनीकी और इंजीनियरिंग का जिसको अब क्रॉस करना मुश्किल सा लगता है टंडल को पार कर जाते हैं तब आप पहुंचते हैं बहुत ही खूबसूरत जगाह शिशु में जहां पर आप हेलीकॉप्टर राइट्स और बोटिंग का मजा ले सकते हैं ,जहां पर वोटिंग का कुछ अलग ही मजा है|

इसे भी पड़े :-

अमृतसर का स्वर्ण मंदिर

golden temple history

9. सेतन विलेज मनाली

सेतन विलेज: – इसको के इग्लू विलेज के नाम से भी जाना जाता है, यह मनाली से 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है यहां की खास बात की है कि यहां पर सबसे पहले इग्लू बनाए गए थे तब से इस गांव का नाम काफी फेमस होने लग गया और और यह मनाली के टॉप टोरस प्लेसिस में मैं आता है अगर आप मनाली में आकर बर्फ का मजा लेना चाहते हैं और इसके साथ साथ एडवेंचर एक्टिविटी जैसे कि यहां पर आकर के आप स्लाइडिंग, स्केटिंग और स्नो बाइक का मजा ले सकते हैं|

FAQ

मनाली किस राज्य में है ?

himachal pradesh में

मनाली में बर्फबारी कब होती है ?

दिसंबर से लेकर फरवरी महीने तक खूब बर्फ पड़ती है |

मनाली कब जाये?

दिसंबर से लेकर फरवरी तक आ सकते कियोकी जहाँ खूब बर्फ पड़ती है | अगर गर्मियों में आना चाहते और बर्फ का मजा उस टाइम लेना चाहते है तो आप मई से लेकर अगस्त में जहाँ आ सकते है |

मनाली में क्या चीज फेमस है?

लोग हर साल जहाँ छुट्टियां मनाने, स्केटिंग करने , स्नोफॉल देखने, ट्रैकिंग करने, पैराग्लाइडिंग करने,स्क्रीन करने, और पर्वतों की चढ़ाई करने के लिए आते हैं

दुनिया की सबसे लंबी सुरंग कहाँ है ?

हिमाचल प्रदेश में जिसका नाम अटल टनल सुरंग है

मनाली में स्नोफॉल कब होगी?

दिसंबर से फ़रवरी महीने में

मनाली घूमने कैसे जाएं ?

अगर आप मनाली जहाज से जाते हैं तो आप कुल्लू मनाली हवाई अड्डे (भुंतर) जा सकते हैं जो मनाली से 50 किलोमीटर दूर है अगर आप आना चाहते हैं तो उसके नजदीक को स्टेशन नहीं है रेलवे स्टेशन नजदीक है वह कुल्लू से 160 किलोमीटर दूर है उसका नाम जोगिंदर नगर है, अगर आप बाई रोड मनाली जाना चाहते हैं तो आपको हिमाचल प्रदेश के नजदीक जितने भी शहर है उनमें से हिमाचल प्रदेश परिवहन की बसें मिल जाएगी या आप टैक्सी से भी सकते हैं|

निष्कर्ष

दोस्तों आज मैं आपको मनाली के बारे में बताया है के manali me ghumne ki jagah कोन कोन सी है, इसके बारे में आपको जानकारी दी है अगर आप बर्फ के टाइम  मनाली आते हैं तो आपको काफी मजा आने वाला है क्योंकि चारों तरफ सफेद रंग की बर्फ किसी के भी दिल को छू जाती है, अगर आप छुट्टियां मनाने के लिया आना चाहते हैं, चाहे गर्मियां हो चाहे सर्दियां यहां का मौसम बहुत सुहाना रहता है अगर दोस्तों यह जानकारी आपको अच्छी लगी है तो जो दोस्त आपके मनाली आना चाहते है,उसको जे पोस्ट को शेयर करें, शेयर करने के लिए बटन निचे दिए गए है उनको दबाकर शेयर कर सकते हैं और जाते-जाते मुझे कमेंट जरूर करें यह पोस्ट आपको कैसा लगा |

धन्यवाद

क्रपया निचे star rating देना न बूलें

4.7/5 - (3 votes)

Leave a Comment